Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

सावन ( दोहा छंद )

काँपी रह-रह घाटियाँ, आया विकट असाढ़ |
थर्राए गिरि देख कर , लाया ऐसी बाढ़ ||

सावन जहँ गाने लगा, रह-रह राग मल्हार |
अँगड़ाई लेती दिखीं , तहँ नदिया की धार ||

किश्ती भी उत्साह से, दिखी तरबतर खूब |
चिंता में है वक चतुर , कहीं न जाएं डूब ||

कुदरत ने तन पर मले, सावन के जो रंग |
हर्षित हरियायी दिखी , धरा नवांकुर संग ||

झरनों की किलकारियां, खींच रहीं हैं ध्यान |
गाता है सावन जहाँ , लेकर लम्बी तान ||

मेघ गर्जना से कहीं , दादूर करते शोर |
कहीं उतरकर वृक्ष से, नाच रहा है मोर ||

मुख कलियों का चूमती, बारिश की जल बूँद |
तीक्ष्ण शूल को देखकर , रही नयन अब मूँद ||

~ अशोक कुमार

Language: Hindi
2 Likes · 5 Comments · 1054 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
■ प्रभात चिंतन ...
■ प्रभात चिंतन ...
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
ऑनलाईन शॉपिंग।
ऑनलाईन शॉपिंग।
लक्ष्मी सिंह
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Dr.Pratibha Prakash
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
Sakhawat Jisan
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
जितनी मेहनत
जितनी मेहनत
Shweta Soni
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
राम की धुन
राम की धुन
Ghanshyam Poddar
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)*
*बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...