Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

सावन ( दोहा छंद )

काँपी रह-रह घाटियाँ, आया विकट असाढ़ |
थर्राए गिरि देख कर , लाया ऐसी बाढ़ ||

सावन जहँ गाने लगा, रह-रह राग मल्हार |
अँगड़ाई लेती दिखीं , तहँ नदिया की धार ||

किश्ती भी उत्साह से, दिखी तरबतर खूब |
चिंता में है वक चतुर , कहीं न जाएं डूब ||

कुदरत ने तन पर मले, सावन के जो रंग |
हर्षित हरियायी दिखी , धरा नवांकुर संग ||

झरनों की किलकारियां, खींच रहीं हैं ध्यान |
गाता है सावन जहाँ , लेकर लम्बी तान ||

मेघ गर्जना से कहीं , दादूर करते शोर |
कहीं उतरकर वृक्ष से, नाच रहा है मोर ||

मुख कलियों का चूमती, बारिश की जल बूँद |
तीक्ष्ण शूल को देखकर , रही नयन अब मूँद ||

~ अशोक कुमार

Language: Hindi
Tag: दोहा
2 Likes · 5 Comments · 770 Views
You may also like:
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
आख़िरी मुलाकात
N.ksahu0007@writer
कुछ नए ख़्वाब।
Taj Mohammad
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
'अशांत' शेखर
किया वादा
लक्ष्मी सिंह
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
कर रहे शुभकामना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
दस्तूर
Rashmi Sanjay
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दूर होकर भी तू मेरी शिद्तों में रहा
Dr fauzia Naseem shad
चंद्रलोक का हाल (बाल कविता)
Ravi Prakash
अगर की हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
*आधुनिक सॉनेट का अनुपम संग्रह है ‘एक समंदर गहरा भीतर’*
बिमल तिवारी आत्मबोध
आस्तीक भाग-एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The Deep Ocean
Buddha Prakash
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
"स्कूल चलो अभियान"
Dushyant Kumar
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सफ़रनामा
Gautam Sagar
💐💐परेसां न हो हश्र बहुत हसीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदला या बदलाव?
Shekhar Chandra Mitra
"एंबुलेंस कर्मी"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...