Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 27, 2016 · 1 min read

सावन ( दोहा छंद )

काँपी रह-रह घाटियाँ, आया विकट असाढ़ |
थर्राए गिरि देख कर , लाया ऐसी बाढ़ ||

सावन जहँ गाने लगा, रह-रह राग मल्हार |
अँगड़ाई लेती दिखीं , तहँ नदिया की धार ||

किश्ती भी उत्साह से, दिखी तरबतर खूब |
चिंता में है वक चतुर , कहीं न जाएं डूब ||

कुदरत ने तन पर मले, सावन के जो रंग |
हर्षित हरियायी दिखी , धरा नवांकुर संग ||

झरनों की किलकारियां, खींच रहीं हैं ध्यान |
गाता है सावन जहाँ , लेकर लम्बी तान ||

मेघ गर्जना से कहीं , दादूर करते शोर |
कहीं उतरकर वृक्ष से, नाच रहा है मोर ||

मुख कलियों का चूमती, बारिश की जल बूँद |
तीक्ष्ण शूल को देखकर , रही नयन अब मूँद ||

~ अशोक कुमार

2 Likes · 5 Comments · 594 Views
You may also like:
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
Neha Sharma
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
नसीब
DESH RAJ
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
परी
Alok Saxena
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
मेहनत
Arjun Chauhan
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
Loading...