Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

सावन का महीना

देखो देखो बादल घिर आए, देख के इसको सबके मन हर्षाए, उमड़ उमड़कर काले बादल, बारिश की रिमझिम बूंदें बरसाए,
बादल गरजे, बिजली चमकी, देख के इसको सबके मन घबराए,
हो जाता भयभीत सबका मन, जब चलती सन सन तेज हवाएं,
नदी तालों में मेंढक टर्राए, गहरे अंधियारे में झींगुर भी जैसे गाएं,
कल कल करती नदियां बहतीं, बादल भी इंद्रधनुषी छटा दिखाए,
आसमान में घिरते बादल, जैसे किसी गोरी के नैनों में काजल,
देख कर इसको मन हर्षाए, घुमड़ घुमड़ कर बूंदें बरसाए,
खिल गए हैं सुंदर उपवन, पेड़ों में भी सावन के झूले आए,
देख के ऐसे सुहाने मौसम, प्रेमी प्रेमिका के मन तरसाए,
रोमांचित होकर प्रियतम से मिलने, आतुर हो हर एक मन गाए,
किसान भी नाचे झूमें गाएं, खेतों में जब हरियाली लहराए,
चहुं ओर छाई हरियाली ने, मानों प्रकृति को हरी चादर ओढ़ाए,
सावन महीना आए, देखो सावन महीना आए।।
✍️मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर, छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
*Author प्रणय प्रभात*
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
*दृष्टि में बस गई, कैकई-मंथरा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
Loading...