Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं

सागर की लहरें रुक सी गई हैं
काली घटाएं झुक सी गई हैं
जबसे आए हो तुम जिंदगी में
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं-सागर की लहरें
जाग उठी हैं दिल की तरंगें
उभर आई हैं नई-नई उमंगें
खामोशियाॅ॑ ज्यूं छंट ही गई हैं-सागर की लहरें
नहीं रहा अब घोर अंधेरा
चहूॅ॑ और ज्यूं खिला सवेरा
मायूसियाॅ॑ दिल से हट ही गई हैं-सागर की लहरें
ख्वाब ले रहे हैं अंगड़ाई
दूर हुई गमों की परछाई
तन्हाईयाॅ॑ जैसे बंट सी गई हैं-सागर की लहरें
इंद्रधनुषी रंग बिखरे हैं
जैसे कि सप्तसुर निखरे हैं
‘V9द’ महफ़िलें से सी गई हैं-सागर की लहरें

1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
हृदय के राम
हृदय के राम
Er. Sanjay Shrivastava
प्याली से चाय हो की ,
प्याली से चाय हो की ,
sushil sarna
खुदकुशी से पहले
खुदकुशी से पहले
Shekhar Chandra Mitra
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
Dr Archana Gupta
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*Author प्रणय प्रभात*
"व्याख्या-विहीन"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"Sometimes happiness and peace come when you lose something.
पूर्वार्थ
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
चेहरे की मुस्कान छीनी किसी ने किसी ने से आंसू गिराए हैं
Anand.sharma
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
Loading...