Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2021 · 2 min read

” सामोद वीर हनुमान जी “

गुलाबी नगरी जयपुर से कुछ दूरी पर
एक प्यारा सा गांव नांगल भरड़ा पड़ता है
शान्त, दुर्गम, विशाल पहाड़ियों के बीच
एक चट्टान पर वीर हनुमान बसता है,
600 वर्ष पूर्व घटित हुई थी जो घटना
पूर्वजों द्वारा आज सभी को सुनाई जाती है
संत नग्नदास ने की थी यहां पर आराधना
कंटीले रास्तों से आज चढ़ाई की जाती है,
एक दिन संत को सुनाई दी थी भविष्यवाणी
गर्जना के साथ शोर फिर तेज सुना जाता है
वीर हनुमान बन कर यहां पर प्रकट होऊंगा
फिर साक्षात दर्शन बालाजी का हो जाता है,
जहां हुए दर्शन संत को वीर हनुमान जी के
उसी चट्टान को मूर्ति में फिर बदला जाता है
तभी किया नग्नदास जी ने घोर तप प्रारंभ
6 फूट ऊंची मूर्ति का अनावरण किया जाता है,
सुना है पर्दा लगाकर करते थे संत आराधना
एक बार भक्त द्वारा अनुरोध किया जाता है
मुझे भी करवा दो भगवान के दर्शन महाराज
तभी वहां नग्नदास द्वारा पर्दा हटाया जाता है,
घोर गर्जना संग तब बरस पड़ी थी मूक प्रतिमा
सुनकर बवंडर भक्त तो मूर्छित फिर हो जाता है
भेड़, बकरी, ग्वाले सभी भाग पड़े थे घरों की ओर
जब भयंकर शोर उनके कानों में सुनाई पड़ता है,
कहते हैं तभी से शुरू हुई पीठ की पूजा
दूर दूर से भक्तजन यहां आगमन करते हैं
तकरीबन 1100 सीढ़ियों की चढ़ाई कर
मन्नत मांगने सामोद पर्वत पहुंचा करते हैं,
समीप की धर्मशालाओं में ठहरते श्रद्धालु
भजन से संगत आध्यात्मिक की जाती है,
हवा में बैठकर ही करो दर्शन बालाजी के
खुशी खुशी यहां सवामणी की जाती है,
सीताराम वीर हनुमान ट्रस्ट द्वारा बना मंदिर
आजकल रोप वे की सुविधा भी दी जाती है
लड्डू जैसे हनुमान जी की पावन मूर्ती देखकर
मीनू की आखें शीतलता महसूस किया करती हैं।

Dr.Meenu Poonia jaipur

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 747 Views
You may also like:
■ मुक्तक / दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य
*Author प्रणय प्रभात*
फल
Aditya Prakash
संगीत
Surjeet Kumar
'बेवजह'
Godambari Negi
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गणपति
विशाल शुक्ल
मोह....
Rakesh Bahanwal
लैपटॉप सी ज़िंदगी
सूर्यकांत द्विवेदी
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नन्ही भव्या
Shyam kumar kolare
हम भी कहेंगे अपने तजुरबात पे ग़जल।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! "...
VEDANTA PATEL
दर्द ने हम पर
Dr fauzia Naseem shad
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
पावस
लक्ष्मी सिंह
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जमातों में पढ़ों कलमा,
Satish Srijan
💐साधनं एषः एतस्मिन् असाधनं न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
दौर ए हाजिर पर
shabina. Naaz
जीवन
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
कमजोरी अपनी यहाँ किसी को
gurudeenverma198
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
12
Dr Archana Gupta
*विद्यालय की रिक्शा आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
लिव इन रिलेशनशिप
Shekhar Chandra Mitra
इक ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
Loading...