Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2021 · 2 min read

” सामोद वीर हनुमान जी “

गुलाबी नगरी जयपुर से कुछ दूरी पर
एक प्यारा सा गांव नांगल भरड़ा पड़ता है
शान्त, दुर्गम, विशाल पहाड़ियों के बीच
एक चट्टान पर वीर हनुमान बसता है,
600 वर्ष पूर्व घटित हुई थी जो घटना
पूर्वजों द्वारा आज सभी को सुनाई जाती है
संत नग्नदास ने की थी यहां पर आराधना
कंटीले रास्तों से आज चढ़ाई की जाती है,
एक दिन संत को सुनाई दी थी भविष्यवाणी
गर्जना के साथ शोर फिर तेज सुना जाता है
वीर हनुमान बन कर यहां पर प्रकट होऊंगा
फिर साक्षात दर्शन बालाजी का हो जाता है,
जहां हुए दर्शन संत को वीर हनुमान जी के
उसी चट्टान को मूर्ति में फिर बदला जाता है
तभी किया नग्नदास जी ने घोर तप प्रारंभ
6 फूट ऊंची मूर्ति का अनावरण किया जाता है,
सुना है पर्दा लगाकर करते थे संत आराधना
एक बार भक्त द्वारा अनुरोध किया जाता है
मुझे भी करवा दो भगवान के दर्शन महाराज
तभी वहां नग्नदास द्वारा पर्दा हटाया जाता है,
घोर गर्जना संग तब बरस पड़ी थी मूक प्रतिमा
सुनकर बवंडर भक्त तो मूर्छित फिर हो जाता है
भेड़, बकरी, ग्वाले सभी भाग पड़े थे घरों की ओर
जब भयंकर शोर उनके कानों में सुनाई पड़ता है,
कहते हैं तभी से शुरू हुई पीठ की पूजा
दूर दूर से भक्तजन यहां आगमन करते हैं
तकरीबन 1100 सीढ़ियों की चढ़ाई कर
मन्नत मांगने सामोद पर्वत पहुंचा करते हैं,
समीप की धर्मशालाओं में ठहरते श्रद्धालु
भजन से संगत आध्यात्मिक की जाती है,
हवा में बैठकर ही करो दर्शन बालाजी के
खुशी खुशी यहां सवामणी की जाती है,
सीताराम वीर हनुमान ट्रस्ट द्वारा बना मंदिर
आजकल रोप वे की सुविधा भी दी जाती है
लड्डू जैसे हनुमान जी की पावन मूर्ती देखकर
मीनू की आखें शीतलता महसूस किया करती हैं।

Dr.Meenu Poonia jaipur

Language: Hindi
1 Like · 1429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
Dr fauzia Naseem shad
दूर क्षितिज के पार
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
Ms.Ankit Halke jha
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक दिया जलाये
एक दिया जलाये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
*जनवरी में साल आया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-276💐
💐प्रेम कौतुक-276💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
आज का मानव
आज का मानव
Shyam Sundar Subramanian
Loading...