Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

सामने सच के चुप राहाहूँ मैं

सामने सच के चुप रहा हूँ मै
झूठ के साथ पर लडा हूँ मै

मुस्कराहट भले हो चेहरे पर
रूह से पर कहीं बुझा हूँ मैं

जाएगा दूर किस तरह मुझ से
दिल में उसके बसा हुया हूँ मैं

तुमने लाँघा नही जिसे अब तक
तेरे दिल का वो दायरा हूं मै

जलजले आंधियां सभी हैं साथ
बद दुयाओं का कफिला हूँ मैं

जो कभी बेवफा नहीं होगा
मेरे हमदम वो वायदा हूँ मैं

एक कतरा न अश्क आँखों में
चूँकि पत्थर का ही बना हूँ मैं

चार पैसे अगर हों हाथों मे
सोचता वो के अब खुदा हूँ

जो ग़ज़ल को न रास है निर्मल
एक उलझा सा काफ़िया हूँ मैं

349 Views
You may also like:
■ मुक्तक / काश...
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुझसे पहले क्या किसी ने
gurudeenverma198
कैसा अलबेला इंसान हूँ मैं!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*अच्छे लगे त्यौहार (गीत)*
Ravi Prakash
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
जब भी ज़िक्र आया तेरा फंसानें में।
Taj Mohammad
वो कोरोना का क़हर भी याद आएगा
kumar Deepak "Mani"
वो भी क्या दिन थे
shabina. Naaz
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
மர்மம்
Shyam Sundar Subramanian
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
क्रांति के रागिनी
Shekhar Chandra Mitra
Tears in eyes
Buddha Prakash
हिंदी हमारी शान है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारा संविधान
AMRESH KUMAR VERMA
ये कैसी तडपन है, ये कैसी प्यास है
Ram Krishan Rastogi
तनहा
Rekha Drolia
कि सब ठीक हो जायेगा
Vikram soni
रूठ जाने लगे हैं
Gouri tiwari
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कला
मनोज कर्ण
वैलेंटाइन डे युवाओं का एक दिवालियापन
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
✍️ताकत और डर✍️
'अशांत' शेखर
Loading...