Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

सामने सच के चुप राहाहूँ मैं

सामने सच के चुप रहा हूँ मै
झूठ के साथ पर लडा हूँ मै

मुस्कराहट भले हो चेहरे पर
रूह से पर कहीं बुझा हूँ मैं

जाएगा दूर किस तरह मुझ से
दिल में उसके बसा हुया हूँ मैं

तुमने लाँघा नही जिसे अब तक
तेरे दिल का वो दायरा हूं मै

जलजले आंधियां सभी हैं साथ
बद दुयाओं का कफिला हूँ मैं

जो कभी बेवफा नहीं होगा
मेरे हमदम वो वायदा हूँ मैं

एक कतरा न अश्क आँखों में
चूँकि पत्थर का ही बना हूँ मैं

चार पैसे अगर हों हाथों मे
सोचता वो के अब खुदा हूँ

जो ग़ज़ल को न रास है निर्मल
एक उलझा सा काफ़िया हूँ मैं

515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गाय
गाय
Vedha Singh
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
★नज़र से नज़र मिला ★
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ कविता / स्वयं पर...
■ कविता / स्वयं पर...
*Author प्रणय प्रभात*
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
Ravi Prakash
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar N aanjna
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
कवि दीपक बवेजा
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
यादों की बारिश का
यादों की बारिश का
Dr fauzia Naseem shad
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
Kanchan Khanna
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
डॉ० रोहित कौशिक
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
Loading...