Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2016 · 1 min read

साथ चलें जिन्दगी

आओ हम तुम साथ चलें ज़िन्दगी,
कुछ मैं तुमसे कदम मिलाऊँ ,
कुछ तुम मेरा साथ निभाओ ज़िन्दगी,
मैं तुम्हारी तरफ अपने हाथ बढ़ाऊं,
कुछ तुम मेरा हाथ पकड़ के आगे बढ़ाओ ज़िन्दगी,
मैं तुमको पाकर खुश बहुत खुश हूँ,
तुम भी तो मुझे देखकर मुस्कुराओ ज़िन्दगी,
मैं तुम्हारे बिना अधूरा हूँ अगर ,
तुम कब मेरे बिना पूरी हो ज़िन्दगी,
बहुत लम्बा सफर हमको पूरा करना है,
हम दोनों साथ मिलकर कदम बढ़ाएं ज़िन्दगी,
ज़माना देखकर जले हमारा साथ,
दोनों मिलकर कुछ इस कदर मुस्कुराएं ज़िन्दगी,
आओ हम तुम साथ चलें जिन्दगी ।।

“संदीप कुमार”

Language: Hindi
438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-525💐
💐प्रेम कौतुक-525💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो गली भी सूनी हों गयीं
वो गली भी सूनी हों गयीं
The_dk_poetry
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
"अक्ल बेचारा"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
Harminder Kaur
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
Anis Shah
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अरमान
अरमान
Neeraj Agarwal
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
Loading...