सात मुक्तक

सात मुक्तक
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
1-
आज भी है गुलामी बड़ी देश मेँ
हर घड़ी बेबसी ये खड़ी देश मेँ
सत्य तो मौन है, है सहम सा गया
ना लगे दुष्ट को हथकड़ी देश मेँ
2-
रक्षा बन्धन के अवसर पर संकल्प नया करना होगा
है अस्मत खतरे मेँ बहनोँ की हमको ना डरना होगा
अपनी बहनोँ की रखवाली हर भाई तो करता ही है
सबकी बहनोँ की रक्षा खातिर वक्त पड़े मरना होगा
3-
आपका जो हमेँ आसरा मिल गया
कह नहीँ पा रहे अब कि क्या मिल गया
ढूँढने को जिसे हम भटकते रहे
देखकर आपको वो पता मिल गया
4-
आपने जो हमेँ यार इतना दिया
हम हुए धन्य हैँ सोम जैसे पिया
ये हमेँ तो बताएँ जरा आप ही
एक अनजान से प्यार कैसे किया
5-
आपने जो बताया कमीँ को जमीँ
आ गयी देखिए आँख मेँ भी नमी
हम नहीँ चाहते यूँ कि सम्मान हो
हम कि टूटे हुए हैँ फटे आदमी
6-
नन्हेँ बच्चोँ के दुख से ये भर जाता है गाँव मेरा
सावन-भादो के आते ही डर जाता है गाँव मेरा
उल्टी पेचिस और दिमागी रोग कि लेते जान कोई
यूँ कह देँ तो ग़लत न होगा मर जाता है गाँव मेरा
7-
पढ़ोगे तो सफलता का ठिकाना जीत पाओगे
खुशी का और इज्जत का ख़जाना जीत पाओगे
यही इक चीज ऐसी है कि हर पल साथ देती है
इसे तुम जीत कर देखो ज़माना जीत पाओगे

– आकाश महेशपुरी

172 Views
You may also like:
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां
Anjana Jain
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
Loading...