Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2017 · 1 min read

“”साजिश””

देखते ही देखते सपना कोई टूट गया।
एक साजिश औ अपना कोई छूट गया।।

रख गलत इरादा हर फैसला करते थे वो,
चुप्पी से मेरी हर बार नया कोई रूठ गया ।।

क्या शक होता जब हर हुनर हमारा था।
दिया हमे मात घर हमारा ही लूट गया।।

बमुश्किल खड़ी की थी सच की इमारत,
साजिश चली तो हमें कहा झूठ गया।।

आवाज उठाई हमने तो बागी हम हुए,
फिरकी फिराई उसने हर हमें कूट गया।।

पी रखे थे हम घूंट इतने कड़वे कड़वे,
मयकदा का हमसे न पिया एक घूंट गया।।

हम भी खुश हुए जब हमने रची “जय”
नेकराह चल पड़े जब सब्र बाँध फूट गया।।

संतोष बरमैया “जय”
कुरई, सिवनी, म. प्र.

248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
Monika Yadav (Rachina)
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
सनातन की रक्षा
सनातन की रक्षा
Mahesh Ojha
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
*प्रणय प्रभात*
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
कुली
कुली
Mukta Rashmi
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
I'm not proud
I'm not proud
VINOD CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
Manoj Mahato
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
Ravi Prakash
25- 🌸-तलाश 🌸
25- 🌸-तलाश 🌸
Mahima shukla
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
Loading...