Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“साकी”

“साकी”
तेरी नजरों में ही नशा है साकी,
सब कुछ तो बहाना है बाकी।
हर शमा जली, परवाने मचले,
कोई शबाब ना रहा बाकी।

1 Like · 1 Comment · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
गीत
गीत
Shiva Awasthi
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
गुमनाम 'बाबा'
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
कहाॅ॑ है नूर
कहाॅ॑ है नूर
VINOD CHAUHAN
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
Ravi Prakash
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
डॉ. राकेशगुप्त की साधारणीकरण सम्बन्धी मान्यताओं के आलोक में आत्मीयकरण
कवि रमेशराज
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2442.पूर्णिका
2442.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*Author प्रणय प्रभात*
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
मिल ही जाते हैं
मिल ही जाते हैं
Surinder blackpen
Loading...