Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।

सांसों से आईने पर क्या लिखते हो,
गर है इश्क़ हमसे तो क्यों ना कहते हो।
यूँ कब तक दिल को अपने रोकोगे,
छोड़ हया हमसे तुम क्यों ना मिलते हो।।

ऐसा भी क्या हो गया है तेरे साथ,
जो खुद की परछाई से इतना डरते हो।
कोई तो है वो गहरी बात तेरे पास,
जिसे राज बनाकर तुम तन्हा जीते हो।।

सभी को इश्क़ होता ना मयस्सर,
हुआ है तुम्हें तो कद्र क्यूं ना करते हो।
हमराज बनाकर हमें सुकूँ पाओ,
अंदर ही अंदर क्यूँ तन्हा यूँ जलते हो।।

चाहो तो तुम हम से करो गिला,
ऐसे सबसे जुदा से क्यों तुम रहते हो।
हम तो चाहेंगें हमेशा तेरा भला,
क्यूँ हम पर अक़ीदा तुम ना करते हो।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3360.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
Shweta Soni
जय हो जनता राज की
जय हो जनता राज की
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
"घमंड के प्रतीक पुतले के जलने की सार्थकता तब तक नहीं, जब तक
*प्रणय प्रभात*
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
न्याय होता है
न्याय होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
थोड़ा सा मुस्करा दो
थोड़ा सा मुस्करा दो
Satish Srijan
गीत
गीत
Kanchan Khanna
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...