Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

सवालिया जिंदगी

मेरी मंजिल मुझे मुक्कमल
पर जिंदगी तेरा मुकाम क्या है
मेरा तो मर्ज इश्क-ए-हकीकी
पर तेरा ये इश्किया जुकाम क्या है ?

इस गुमनाम सी जिंदगी में
भूल चुका हूं कि नाम क्या है
भागते वक्त संग घिसते-घिसटते
पूछता हूं कि आराम क्या है ?

जैसे पिजराबंद उड़ते से पूछे
तेरी आजादी का दाम क्या है
अभी तक खुद को न जाना
कैसे बताऊ कि राम क्या है ?

मेरे हाथों में रहती कुदाल
चौरस की गोटी का काम क्या है
बिष-अपशिष्ट उठा नीलकंठ से
नीलकाय होने का परिणाम क्या है ?

जन-मन प्रदूषण का बिष
पी चुका तो जहर-जाम क्या है
गर्त गिरती गरिमा-गर्वगाथा की
कोई बताये रोकथाम क्या है ?

अब सूझता ही नही ऐसे में
इलाज क्या और इंतजाम क्या है
रामबाण औषधि न सही
पर इस सिरदर्दी का बाम क्या है ?

सारी उम्र नासमझी में बीती
अब जाना जिंदगी का कलाम क्या है
अब मैं भी तो चलूंगा हरपल
जैसे नदी न जाने विश्राम क्या है ?

जब मौत से ठनी जंग-ए-जिंदगी
तो फिर ये निरा निजाम क्या है
रखना जज्बा और जिंदगी जिंदा
इससे बडा़ और पैगाम क्या है ?
~०~
[C]जीवनसवारो,जून २०२३‌.

Language: Hindi
2 Likes · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
ज़िंदगी तेरा हक़
ज़िंदगी तेरा हक़
Dr fauzia Naseem shad
शुरुवात जरूरी है...!!
शुरुवात जरूरी है...!!
Shyam Pandey
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
💐अज्ञात के प्रति-76💐
💐अज्ञात के प्रति-76💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
सपना देखना अच्छी बात है।
सपना देखना अच्छी बात है।
Paras Nath Jha
Gone
Gone
*Author प्रणय प्रभात*
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
'अशांत' शेखर
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
gurudeenverma198
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
शेखर सिंह
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
Loading...