Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

सर्वनाम के भेद

संज्ञा के बदले में आता
भाषा में नव रंग जमाता।
वाक्य सृजन में आए काम
छः भेद और ग्यारह सर्वनाम।
मैं, हम, आप, यह, ये
तु, तुम, वह, और वे ।
ये शब्द पुरुष के नाम के बदले
प्रयोग किए हैं जाते।
जो पुरुषवाचक सर्वनाम हैं कहलाते!
निकट की वस्तु का यह बोधक
दूर की वस्तु का वह शोधक
निश्चित रूप से करके इंगित देते संकेत इशारा
निश्चित और संकेत वाचक सर्वनाम यह न्यारा।
‘कोई है सजीव संकेतक
कुछ है पदार्थ का भेदक ।
दोनों शब्द ही प्राणी- पदार्थ की अनिश्चिता दर्शाए ।
इसीलिए तो कोई और कुछ अनिश्चित सर्वनाम कहलाए।
‘क्या’ शब्द जड़ता को दर्शाता
‘कौन’ शब्द चेतना का ध्याता
ये दोनों हैं प्रश्न निर्माता, खोलें जिज्ञासा का खाता।
इसीलिए तो भेद यह प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाता।
जो-सो दर्शाता ताल-मेल को
संबंध दर्शाती शब्दों की रेल को।
खेलो तुम सर्वनाम खेल को जो संबंध-बोधक कहलाए ।
अपना-अपनी निजता का जब आप बोध कराए।
समझो निजवाचक सर्वनाम को ही यह वाक्य में दर्शाए।
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ
माँ
श्याम सिंह बिष्ट
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
राम की रहमत
राम की रहमत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
ढाई अक्षर वालों ने
ढाई अक्षर वालों ने
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
Shekhar Chandra Mitra
#नहीं_जानते_हों_तो
#नहीं_जानते_हों_तो
*Author प्रणय प्रभात*
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
एक सबक इश्क का होना
एक सबक इश्क का होना
AMRESH KUMAR VERMA
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3036.*पूर्णिका*
3036.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-165💐
💐प्रेम कौतुक-165💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...