Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।

सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
देखो शीतल बयार अब, रोम-रोम कँपकँपाने लगी।
धुंध की नरम रज़ाई ओढ़ के, सूरज अलसाने लगा।
चाय की गर्म गर्म चुस्कियाँ, थोड़ा और इतराने लगीं।

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विरहन
विरहन
umesh mehra
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
2476.पूर्णिका
2476.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
World News
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल  ! दोनों ही स्थितियों में
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में
Tarun Singh Pawar
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
एक प्रभावी वक्ता को
एक प्रभावी वक्ता को
*Author प्रणय प्रभात*
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
💐प्रेम कौतुक-560💐
💐प्रेम कौतुक-560💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
"इच्छाशक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
फ्राॅड की कमाई
फ्राॅड की कमाई
Punam Pande
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
Loading...