Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

सर्दी

धरती ने ली, कुछ करवटें।
सूरज का ताप कुछ इस तरह सिमटा!
तन पर गर्म कपड़ों को लिया हमने लिपटा
जब हवा ने की, कुछ शीतल हरकतें।
महीना दिसंबर का आया।
शीत ऋतु साथ में लाया।
गरम पकोड़े,अदरक चाय!
गजक मूंगफली रेवड़ी का देखो! ज़माना आया।
हलवा भटूरे, पूड़ी कचौड़ी को भी हमने खूब आजमाया।
कोहरे ने धूप को कुछ इस तरह समेटा,
निकल आए बाहर! मफलर टोपी और रजाई।
छोटे हुए दिन,लंबी रातों में जिंदगी कुछ यूं सिमट आई।
सर्दियों ने कुछ ऐसे ही, अपनी आहट सुनाई।
गर्म कपड़े, स्वेटर बूट पहन कर सब थोड़ा। बाहर टहल आएं।

कुछ नजर घुमाई तो देखा
फुटपाथ पर बिछौने पे कुछ तन, कुछ सिमटते हुए हैं, पड़े।
तो चलो!
एक दुशाला! उन्हें। देखकर।
अलमारी को कुछ हल्का कराएं।
थोड़ी गजक मूंगफली रेवड़ी।
हम उनको भी बांट आऐं।
सर्दी की खुशियों में कुछ और लोगों को शामिल कराएं।
लंबी ठंडी रातों में। कुछ रोशनी के दीपक जलाऐं
कुछ हाथ बढ़ाएं, हम भी कुछ कदम उठाऐं।
सर्दी के बाद आने वाले बसंत की कुछ आशाऐं महकाऐं।

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
अब उनके ह्रदय पर लग जाया करती है हमारी बातें,
शेखर सिंह
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
💐
💐
*Author प्रणय प्रभात*
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
आत्मा की शांति
आत्मा की शांति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐अज्ञात के प्रति-44💐
💐अज्ञात के प्रति-44💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ईमानदारी"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
भगतसिंह मरा नहीं करते
भगतसिंह मरा नहीं करते
Shekhar Chandra Mitra
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
Loading...