Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

*सर्दी की धूप*

सर्दी की धूप
यह ठिठुरन वाली सर्दी,
और बालकनी तक
आती सर्दी की धूप।

संग पुरानी कुर्सी,
चरमराती सी।
गुमसुम पड़ी किताबें,
और चिपके हुए पन्ने।
कह रहें हो मानो,
मिल जाए सर्दी की,
थोड़ी सी धूप ।।

जो झूले ठंड के
कारण थे खाली पड़े।
कड़कड़ाती ठंड में
थे सर्द पड़े।
आज बच्चों की टोली,
उनपर झूला झूल रही है।
वह झूले भी प्रसन्न,
प्रतीत हो रहे मानो
अकेलेपन से थे सिसक रहे
जब मिली उन्हें,
सर्दी की धूप।।

छत पर हैं दादा-दादी,
और बच्चों की टोली
संग मां रस्सियों पर,
कपड़े सुखाते,
धूप सेकती।
धूप से सड़कों पर,
चहल-पहल और
लोगों की आवाजाही
का शोर।
जब मिली उन्हें,
सर्दी की धूप।।

पौधों पर ओस की बूंदें,
मोती की भांति।
चमक जाती हैं।
पत्ते भी खिलखिलाते,
हरे होकर।
जब पड़ती उनपर,
सर्दी की धूप।

पालतू जानवरों का
झुंड नज़र आता है।
दौड़ते, खेलते,
अंगड़ाइयां लेते,
जब मिलती उन्हें
सर्दी की धूप।।

सर्दी की धूप ,
लगती कितनी प्यारी।
दूर करती शरीर की सर्दी,
बन जाती डॉक्टर,
देती कैल्शियम
और विटामिन डी।
जिससे होती हड्डियां
मजबूत ।

सर्दी की धूप कितनी प्यारी,
लगती मनमोहक
और न्यारी ।
हो पाए तो
लीजिये ज़रूर,
ठिठुरन में सर्दी की धूप।।
डॉ प्रिया।
अयोध्या।।

Language: Hindi
1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
#मंगलकामनाएं
#मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
अपनी मर्ज़ी के
अपनी मर्ज़ी के
Dr fauzia Naseem shad
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
जीवन रथ के दो पहिए हैं, एक की शान तुम्हीं तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2740. *पूर्णिका*
2740. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
"तगादा का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
Ravi Prakash
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
मुक्तक...
मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
Loading...