Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 2 min read

सरयू

अयोध्या के साथ सरयू नदी का गहरा सम्बन्ध है । अयोध्या इसी के किनारे बसा है। उत्तर प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्रों में इसे शारदा भी कहा जाता है। इसे सरजू भी कहते हैं और देविका व रामप्रिया भी। जब लोग गोरखपुर, बस्ती के रास्ते अयोध्या आते हैं, तो पहले यही नदी उनके स्वागत में बहती मिलती है। अयोध्या में इसके तट पर 19 घाट हैं, जिनका नामकरण मुख्यतः रामायण के प्रमुख चरित्रों के नाम पर किया गया है, यथा- कौशिल्या घाट, कैकेयी घाट, लक्ष्मण घाट, गोप्रतार घाट, यमस्थला घाट/ जमथरा, चक्रतीर्थ घाट, प्रह्लाद घाट, सुमित्रा घाट, राज घाट, ऋणमोचन घाट, पापमोचन घाट, गोला घाट, विल्वहरि घाट, चन्द्रहरि घाट, नागेश्वरनाथ घाट, वासुदेव घाट, जानकी घाट, राम घाट और स्वर्गद्वार घाट। तीर्थ यात्री इन घाटों पर स्नान कर अपने को धन्य समझते हैं। अब इसका महत्व और भी बढ़ गया है। सरयू के तट पर संध्या आरती आगंतुकों को मोहती है ।
इसका उद्गम उत्तराखण्ड का बागेश्वर जिला है । यह बागेश्वर से निकलकर शारदा नदी में मिल जाती है, जो काली नदी भी कहलाती है । शारदा नदी फिर घाघरा नदी में मिल जाती है । इसी के निचले भाग को सरयू नदी के नाम जाना जाता है। सरयू के तट पर अयोध्या का ऐतिहासिक व तीर्थ नगर बसा हुआ है। सरयू अयोध्या होते हुए आगे बढ़ती है तथा बलिया और छपरा के मध्य इसका विलय गंगा नदी में हो जाता है और इस प्रकार सरयू बिहार में प्रवेश कर जाती है ।
सरयू का प्रवाह तंत्र विस्तारित है। राप्ती इसकी प्रमुख सहायक नदी है, जो इससे देवरिया जिले में बरहज में मिल जाती है। चर्चित प्रमुख नगर गोरखपुर राप्ती नदी के तट पर स्थित है। राप्ती तंत्र की कुछ प्रमुख नदियाँ आमी, जाह्नवी आदि हैं ।

सरयू नदी को वैदिक कालीन नदी माना गया है, जिसका उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है और अन्य ग्रंथों में भी । रामायण में रेखांकित है कि सरयू अयोध्या से होकर बहती है, जिसे दशरथ की राजधानी और राम की जन्भूमि माना जाता है। वाल्मीकि रामायण के कई प्रसंगों में इस नदी का उल्लेख आया है। रामायण के बाल काण्ड में ऋषि विश्वामित्र के साथ शिक्षा के लिए जाते हुए श्रीराम द्वारा इसी नदी द्वारा अयोध्या से इसके गंगा के संगम तक नाव से यात्रा करते हुए जाने का वर्णन मिलता है। कालिदास के महाकाव्य रघुवंशम् में भी इस नदी का उल्लेख है। रामचरित मानस में तुलसीदास ने इस नदी का गुणगान किया है। बौद्ध ग्रंथों में यह नदी ‘सरभ’ के नाम से उल्लिखित है। ऐसी मान्यता है कि राम अयोध्या के निवासियों के साथ इस नदी से होकर वैकुंठ लोक गए और बाद में स्वर्ग में पहुंच गए। यह भी कथा है कि लक्ष्मण की पत्नी उर्मिला ने सरयू नदी में डूबकर जलसमाधि ले ली थी और ऐसा माना जाता है कि उनकी आत्मा को राम के चरणों में मोक्ष प्राप्त हुआ था।

Language: Hindi
1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-551💐
💐प्रेम कौतुक-551💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
#आलिंगनदिवस
#आलिंगनदिवस
सत्य कुमार प्रेमी
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
Rj Anand Prajapati
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
*Author प्रणय प्रभात*
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
Loading...