Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2023 · 1 min read

*सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)*

सरकार तुम्हारा क्या कहना (हिंदी गजल/ गीतिका)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
मस्ती के जाम पिलाते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
सुधियाँ सारी बिसराते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
(2)
कब धूप-अगरबत्ती जलती, कब छिड़का जाता इत्र कहीं
भीतर-बाहर महकाते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
(3)
कब कुछ आकार तुम्हारा है, सूरत कब देख तनिक पाए
फिर भी अहसास दिलाते हो ,सरकार तुम्हारा क्या कहना
(4)
किस्मत वालों का होता है, किस्मत से मिल पाना तुमसे
किस्मत से ही तुम आते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
(5)
धनवानों के रह जाते हैं ,सोने-चाँदी के महल खड़े
निर्धन के घर तुम खाते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
(6)
आने का पता चले कैसे ,न बाजा-न शहनाई बजी
तुम मौन-गीत-मधु गाते हो, सरकार तुम्हारा क्या कहना
(7)
कब आता तुम्हें बुलाने में, प्रभु ! पैसा-पाई का खर्चा
अनमोल मुफ्त मिल जाते हो, सरकार तुमारा क्या कहना
—————————————————-
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उ.प्र.)
मो. 9997615451

232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तेरे मेरे बीच में,
तेरे मेरे बीच में,
नेताम आर सी
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Chahat
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आंधी
आंधी
Aman Sinha
शब्दों के तीर
शब्दों के तीर
Meera Thakur
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
चलो कोशिश करते हैं कि जर्जर होते रिश्तो को सम्भाल पाये।
चलो कोशिश करते हैं कि जर्जर होते रिश्तो को सम्भाल पाये।
Ashwini sharma
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
The best way to end something is to starve it. No reaction,
The best way to end something is to starve it. No reaction,
पूर्वार्थ
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#आस्था_पर्व-
#आस्था_पर्व-
*प्रणय प्रभात*
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
मुक्तक -
मुक्तक -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संगीत
संगीत
Neeraj Agarwal
नेता हुए श्रीराम
नेता हुए श्रीराम
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
خود کو وہ پائے
خود کو وہ پائے
Dr fauzia Naseem shad
सियासत
सियासत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रात-दिन जो लगा रहता
रात-दिन जो लगा रहता
Dhirendra Singh
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
Loading...