Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)

समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
*****************************
उमड़ते बादलों का दृश्य, अतिशय मन-लुभावन है
पवन का नृत्य-पेड़ों का, मधुर संगीत पावन है
हुई अठखेलियॉं इसमें, धरा पर जल बरसने की
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है
————————————————————
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615451

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
*Author प्रणय प्रभात*
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
दल बदलू ( बाल कविता)
दल बदलू ( बाल कविता)
Ravi Prakash
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
अस्तित्व है उसका
अस्तित्व है उसका
Dr fauzia Naseem shad
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
सच तुम बहुत लगती हो अच्छी
gurudeenverma198
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
umesh mehra
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
Loading...