Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

समुद्र हैं बेहाल

मनुष्य प्रदूषित कर रहे हैं
सभी सागरों के किनारे
आंखें मूंदे खामोश दिख
रहे व्यवस्था के रखवारे
चेतावनियों के बावजूद
वे बरतते नहीं सावधानी
ऐसे में बहुत भारी पड़ेगी
हमें प्रकृति की नाफरमानी
मौसमविद यह सतत चेताते
रहे, रखो फिजा का ख्याल
फिर भी व्यस्थापक चेते नहीं
सब ओर समुद्र हैं बेहाल
एक करोड़ टन कचरा पहुंच
रहा समुद्रों में हरेक साल
विषैला होने लगा है समुद्रों का
अंदरुनी प्राकृतिक संजाल
जागरूकता से सुधरेगा समुद्रों
के आसपास का माहौल
पर्यटकों को सुरक्षित निपटाना
होगा साथ में लाए सब माल

Language: Hindi
156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
मुझ पर इल्जाम लगा सकते हो .... तो लगा लो
मुझ पर इल्जाम लगा सकते हो .... तो लगा लो
हरवंश हृदय
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
"सुनहरा दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल से जाना
दिल से जाना
Sangeeta Beniwal
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीर्षक – वेदना फूलों की
शीर्षक – वेदना फूलों की
Sonam Puneet Dubey
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
तुम बिन रहें तो कैसे यहां लौट आओ तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जितनी मेहनत
जितनी मेहनत
Shweta Soni
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
शराफत नहीं अच्छी
शराफत नहीं अच्छी
VINOD CHAUHAN
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
Loading...