Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

समुद्र मंथन

यदि एक बार फिर से हो जाए…
“समुद्र मंथन”
तो नहीं होगी लड़ाई “अमृत” के लिए…
अब तो लड़ाई होगी “विष” के लिए
क्यूंकि
लम्बी उम्र के आशीर्वाद भी
अभिशाप बन चुके हैं….

सुनील पुष्करणा

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 683 Views
You may also like:
फिर भी
Seema 'Tu hai na'
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
* महकाते रहे *
surenderpal vaidya
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
*हिंदी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वह देश हिन्दुस्तान है
gurudeenverma198
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
'क्या लिखूँ, कैसे लिखूँ'?
Godambari Negi
स्वंग का डर
Sushil chauhan
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
बच्चों के लिए
shabina. Naaz
इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
Taj Mohammad
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
जर्मनी से सबक लो
Shekhar Chandra Mitra
हम समझते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद आते हैं
Dr. Sunita Singh
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
Loading...