Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2022 · 1 min read

समुंदर बेच देता है

वो दौलत बाप की बोली लगाकर बेच देता है
कभी सोना कभी हीरा कभी घर बेच देता है

कहीं प्यासा न मर जाये तड़पकर एक दिन यारों
वो कतरा भी नहीं रखता समुंदर बेच देता है

लड़ाकर एक-दूजे को धरम के नाम पर सुन लो
हमारे ख़्वाब सारे एक रहबर बेच देता है

कमाते हैं सभी लेकिन उसे लत है लुटाने की
भले कुनबा बिखर जाये वो दफ्तर बेच देता है

सजग रहते नहीं ‘आकाश’ घर के लोग हर पल तो
चुराकर वस्तुओं को एक नौकर बेच देता है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 14/05/2022

6 Likes · 5 Comments · 418 Views
You may also like:
मनमोहन जल्दी आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच
विशाल शुक्ल
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
मैंने मना कर दिया
विनोद सिल्ला
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
"लाड़ली रानू"
Dr Meenu Poonia
रावण कौन!
Deepak Kohli
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*हटी तीन सौ सत्तर की जब धारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
डूब कर इश्क में जीना सिखा दिया तुमने।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ये दिल
shabina. Naaz
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
■ गीत / कहाँ अब गाँव रहे हैं गाँव?
*प्रणय प्रभात*
खोखली आज़ादी
Shekhar Chandra Mitra
प्यार
Anamika Singh
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गरीबी
कवि दीपक बवेजा
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
एकता
Aditya Raj
दिन रात।
Taj Mohammad
बिटिया दिवस
Ram Krishan Rastogi
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
इज्जत
Rj Anand Prajapati
✍️अंजाना फ़ासला✍️
'अशांत' शेखर
Loading...