Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

समुंदर बेच देता है

वो दौलत बाप की बोली लगाकर बेच देता है
कभी सोना कभी हीरा कभी घर बेच देता है

कहीं प्यासा न मर जाये तड़पकर एक दिन यारों
वो कतरा भी नहीं रखता समुंदर बेच देता है

लड़ाकर एक-दूजे को धरम के नाम पर सुन लो
हमारे ख़्वाब सारे एक रहबर बेच देता है

कमाते हैं सभी लेकिन उसे लत है लुटाने की
भले कुनबा बिखर जाये वो दफ्तर बेच देता है

सजग रहते नहीं ‘आकाश’ घर के लोग हर पल तो
चुराकर वस्तुओं को एक नौकर बेच देता है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 14/05/2022

4 Likes · 5 Comments · 271 Views
You may also like:
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
✍️मिसाले✍️
"अशांत" शेखर
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
प्रयास
Dr.sima
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
कवि
Vijaykumar Gundal
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Apology
Mahesh Ojha
पिता
Anis Shah
सौगंध
Shriyansh Gupta
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
Loading...