Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2022 · 1 min read

समुंदर बेच देता है

वो दौलत बाप की बोली लगाकर बेच देता है
कभी सोना कभी हीरा कभी घर बेच देता है

कहीं प्यासा न मर जाये तड़पकर एक दिन यारों
वो कतरा भी नहीं रखता समुंदर बेच देता है

लड़ाकर एक-दूजे को धरम के नाम पर सुन लो
हमारे ख़्वाब सारे एक रहबर बेच देता है

कमाते हैं सभी लेकिन उसे लत है लुटाने की
भले कुनबा बिखर जाये वो दफ्तर बेच देता है

सजग रहते नहीं ‘आकाश’ घर के लोग हर पल तो
चुराकर वस्तुओं को एक नौकर बेच देता है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 14/05/2022

6 Likes · 5 Comments · 590 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2611.पूर्णिका
2611.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
Manisha Manjari
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*प्रणय प्रभात*
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
Sonam Puneet Dubey
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Kumud Srivastava
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
जो सोचूँ मेरा अल्लाह वो ही पूरा कर देता है.......
जो सोचूँ मेरा अल्लाह वो ही पूरा कर देता है.......
shabina. Naaz
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
Shweta Soni
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
Loading...