Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

समाप्त हो गई परीक्षा

जैसे होती है समाप्त परिक्षा,
बच्चों के मन में आती है खुशियाँ ।
बड़े-बुजुर्ग देखते ही रह जाते हैं,
बच्चों की नटखट मस्तियाँ ।।

अब नहीं करनी है पढाई,
सिर्फ और सिर्फ है खेलना ।
शर्ट का कोल्लर उपर कर-कर,
चुपचाप है दोस्तों से मिलना।।

नहीं खानी है रोटी-सब्जी ,
खानी है आइस-क्रीम
पीनी है कोल्ड-ड्रिंक
क्योंकि होती है सबकी अपनी-अपनी मर्ज़ी ।

नाचो-नाचो समाप्त हो गई है परिक्षा,
बच्चों के मन में आ-गई है खुशियाँ ।।

1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
तानाशाह के मन में कोई बड़ा झाँसा पनप रहा है इन दिनों। देशप्र
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
पुलिस की ट्रेनिंग
पुलिस की ट्रेनिंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
बेदर्दी मौसम🙏
बेदर्दी मौसम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अपना भारत*
*अपना भारत*
मनोज कर्ण
2411.पूर्णिका
2411.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
अगर आप नकारात्मक हैं
अगर आप नकारात्मक हैं
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...