Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

*समय*

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

समय पर पूजा , काम न दूजा
समय पर , प्रभु का ध्यान करो

समय है मानव जीवन की पूँजी
समय पर तुम विश्राम करो

समय पर बोलो , समय पर खेलो
मानव तन सम्मान करो

जीवन को चरितार्थ करो तुम
कर्म को समय प्रधान करो

समय जो छूटा , सब कुछ रूठा
समय को तुम प्रणाम करो

समय का वंदन , तेरा अभिनन्दन
समय को मूल्यवान करो

समय न देखे सुबह – सवेरा
रहे न तुझसे कुछ भी अधूरा

समय पर तुम कुछ न छोड़ो
समय को समय के पलड़े में तोलो

समय जो हो जाए तेरा
समझो हो गया पूर्ण सवेरा

समय को तुम प्रणाम करो
समय को अपने मन ध्यान धरो

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
दिल के अहसास बया होते है अगर
दिल के अहसास बया होते है अगर
Swami Ganganiya
दिल का हर रोम रोम धड़कता है,
दिल का हर रोम रोम धड़कता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सनद"
Dr. Kishan tandon kranti
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
नयनों मे प्रेम
नयनों मे प्रेम
Kavita Chouhan
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
Loading...