Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

समय

समय

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

समय पर पूजा , काम न दूजा
समय पर , प्रभु का ध्यान करो

समय है मानव जीवन की पूँजी
समय पर तुम विश्राम करो

समय पर बोलो , समय पर खेलो
मानव तन सम्मान करो

जीवन को चरितार्थ करो तुम
कर्म को समय प्रधान करो

समय जो छूटा , सब कुछ रूठा
समय को तुम प्रणाम करो

समय का वंदन , तेरा अभिनन्दन
समय को मूल्यवान करो

समय न देखे सुबह – सवेरा
रहे न तुझसे कुछ भी अधूरा

समय पर तुम कुछ न छोड़ो
समय को समय के पलड़े में तोलो

समय जो हो जाए तेरा
समझो हो गया पूर्ण सवेरा

समय को तुम प्रणाम करो
समय को अपने मन ध्यान धरो

समय पर जागो , समय पर सोओ
समय पर अपना काम करो

समय पर पढ़ना , समय पर लिखना
रोशन अपना नाम करो

Language: Hindi
1 Like · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
Exam Stress
Exam Stress
Tushar Jagawat
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*फल*
*फल*
Dushyant Kumar
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
*कुछ रंग लगाओ जी, हमारे घर भी आओ जी (गीत)*
*कुछ रंग लगाओ जी, हमारे घर भी आओ जी (गीत)*
Ravi Prakash
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
स्वदेशी के नाम पर
स्वदेशी के नाम पर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
"अजब-गजब मोहब्बतें"
Dr. Kishan tandon kranti
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
पिता संघर्ष की मूरत
पिता संघर्ष की मूरत
Rajni kapoor
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
Loading...