Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

समय वीर का

जग नहीं सुनता कभी आर्त दुर्बल की पुकार,
सर झुकाता है कि जिसकी है खड्ग की तेज धार।
रक्त शत्रु या कि मेरा युद्ध में निश्चित बहेगा,
हां युगों तक शौर्य सूरज आपका जगमग रहेगा।
किंतु तुमको आज मेरी एक शंका हरनी होगी,
विध्वंस से सूखी धरा को सब्ज हरी करनी होगी।
क्या मिला था अशोक को चहुं ओर मृत्यु बांट कर,
जीता क्या था वो सिकंदर सीमाएं जग की पाट कर।
विध्वंस में कुछ भी सुखद नूतन नहीं यह सत्य है,
जीवन कोई क्रीड़ा नहीं ये रंगमंच नेपथ्य है।
पाट कर लाशों से भु को तुम विजय तो वरण लोगे,
भोग कर पापों का फल निश्चय ही आखिर मरण लोगे।
क्या नया नूतन रचा जो अमरत्व तुमको प्राप्त होगा,
शांति तुमने चाही कब थी सोहार्द कैसे व्याप्त होगा।
कृष्ण ने त्यागी थी मथुरा भय जरासंध का नहीं था,
राम ने थी शांति चाही भय दशानन का नहीं था।
वीरता लड़ने में है पर शांति भी एक राह है,
प्रतिकार हिंसा से भी संभव पर अहिंसा चाह है।
फूल बोने थे जहां पर नागफनियां बो रहे हो।
उस धरा तलवार बो कर रक्त रंजित हो रहे हो।
चाह मेरी है कि रण में धान बोना चाहता हूं,
त्याग कर पूरी अयोध्या राम होना चाहता हूं।
✍️ दशरथ रांकावत ‘शक्ति’

3 Likes · 2 Comments · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
"विश्वास का दायरा"
Dr. Kishan tandon kranti
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
कृष्णकांत गुर्जर
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
..
..
*प्रणय प्रभात*
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
खुद से ज़ब भी मिलता हूँ खुली किताब-सा हो जाता हूँ मैं...!!
खुद से ज़ब भी मिलता हूँ खुली किताब-सा हो जाता हूँ मैं...!!
Ravi Betulwala
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
.........?
.........?
शेखर सिंह
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...