Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*

समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)
_________________________
1)
समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं
सभी की याद धुॅंधली है, यहॉं जो-जो भी आए हैं
2)
यहॉं पर बादशाहत भी, बहुत ज्यादा नहीं चलती
नए राजा ने सारे द्वार, पहले के ढहाए हैं
3)
अगर सच पूछिए तो उम्र, कब की हो चुकी पूरी
बड़ी मुश्किल से दो दिन और, समझो मॉंग लाए हैं
4)
चुनावों में सभी‌ ने बस, चुना है देश का नेता
नहीं सांसद ये भ्रम पालें, कि जनता के जिताए हैं
5)
बनाऍं एक सुखमय दृश्य, पर्वत पेड़ नदियों से
नमन वह क्षण है जब पक्षी, हवा में चहचहाए हैं
6)
नमन उस दौर को जब खूब, सेहरा-गीत चलते थे
न जाने शादियों में कितने, यह कवियों ने गाए हैं
_______________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुझसे लिपटी बेड़ियां
तुझसे लिपटी बेड़ियां
Sonam Puneet Dubey
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
अच्छे दिनों की आस में,
अच्छे दिनों की आस में,
Befikr Lafz
Jay prakash
Jay prakash
Jay Dewangan
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
2593.पूर्णिका
2593.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
ईश्वर की आँखों में
ईश्वर की आँखों में
Dr. Kishan tandon kranti
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
बाबा भीम आये हैं
बाबा भीम आये हैं
gurudeenverma198
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
Ujjwal kumar
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
भूख-प्यास कहती मुझे,
भूख-प्यास कहती मुझे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...