Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

समय आयेगा

अपना भी परचम लहरायेगा
एक दिन ऐसा समय आयेगा

जगमग करते सितारे होंगे
हर सु दिलकश नज़ारे होगे
मिलेंगे हंसते, मुस्कुराते हुए
जो भी बेगाने या हमारे होंगे

झोली खुशियों से भर जायेगा
एक दिन ऐसा समय आयेगा

गिरे हैं तो सम्भल जायेंगे
अपने भी तेवर बदल जायेंगे
देखते – देखते दोस्तो हमारे
उड़ने को पंख निकल जायेंगे

किस्मत भी साथ निभायेगा
एक दिन ऐसा समय आयेगा ।

नूर फातिमा खातून” नूरी”
जिला कुशीनगर
उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar N aanjna
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
When compactibility ends, fight beginns
When compactibility ends, fight beginns
Sakshi Tripathi
3282.*पूर्णिका*
3282.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
"दुर्भिक्ष"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उम्मीदें ज़िंदगी की
उम्मीदें ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
हृदय वीणा हो गया।
हृदय वीणा हो गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सबसे बड़े लोकतंत्र के
सबसे बड़े लोकतंत्र के
*Author प्रणय प्रभात*
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
Loading...