Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2019 · 1 min read

समझ न आये

क्या लिखूँ ,कैसे लिखूँ
कुछ समझ न आये….
शब्द खो गए से लगते हैं
जज़्बात सो गए से लगते हैं
ये कैसा दौर है
शोर ही शोर है
कहीं ढ़ह रहा कोई पुल
कहीं धमाकों का ज़ोर है
लहू के छींटों से रंगा
चीखों से सजा…..
ये कौन सा बाजार है
कुछ समझ न आये…..
राख के ढ़ेर पर बैठा
किसका बालक
वहां रो रहा
कोई यत्न करो
चुप करवाओ उसे…
जाग जाए न कहीं
पास ही ईमान सो रहा
तुम खड़े मुस्कुरा रहे
किसका चित्र बना रहे
कुछ समझ न आये….।।
सीमा कटोच

Language: Hindi
4 Likes · 6 Comments · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं कभी तुमको
मैं कभी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
सुनो द्रोणाचार्य / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
कभी फुरसत मिले तो पिण्डवाड़ा तुम आवो
gurudeenverma198
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🌳 *पेड़* 🌳
🌳 *पेड़* 🌳
Dhirendra Singh
भूल
भूल
Dr.Pratibha Prakash
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
इनको साधे सब सधें, न्यारे इनके  ठाट।
इनको साधे सब सधें, न्यारे इनके ठाट।
गुमनाम 'बाबा'
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन
जीवन
sushil sarna
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
कभी चुभ जाती है बात,
कभी चुभ जाती है बात,
नेताम आर सी
■ welldone
■ welldone "Sheopur"
*प्रणय प्रभात*
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
VINOD CHAUHAN
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
Loading...