Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

समझौता

चलो कुछ समझौता कर ले
वक्त न तुम्हारा
न होगा हमारा
कुछ आपस में बटवारा कर ले
मैं तुम्हें याद रखूँगा
तुम्ह मुझे न भुलाना
यादों को सहने का उपाय कर ले
मान अभिमान तेरा
न छोटा स्वाभिमान मेरा
प्यार में इजहार का वादा कर ले
आगे मिले ना मिले
नहीं कोई शिकवे ग़िले
जीवन से शिकायत दूर कर ले
आओ तुम हम
यों जीने का
चलो कुछ समझौता कर ले

सजन

Language: Hindi
Tag: कविता
180 Views

Books from Sajan Murarka

You may also like:
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
नाराज़ जनता
नाराज़ जनता
Shekhar Chandra Mitra
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिवाली
दिवाली
Aditya Prakash
संविधान /
संविधान /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बर्बादी की दुआ कर गए।
बर्बादी की दुआ कर गए।
Taj Mohammad
अज्ञानता
अज्ञानता
Shyam Sundar Subramanian
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
सेंटा क्लॉज
सेंटा क्लॉज
Surinder blackpen
*जिनका साधु-सा व्यवहार होता है (मुक्तक)*
*जिनका साधु-सा व्यवहार होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पार्क
पार्क
मनोज शर्मा
तथागत प्रीत तुम्हारी है
तथागत प्रीत तुम्हारी है
Buddha Prakash
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण...
Seema Verma
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
Ranjana Verma
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
Ankit Halke jha
अवधी दोहा
अवधी दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हक
हक
shabina. Naaz
■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा के अन्तर्गय
■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा के अन्तर्गय
*Author प्रणय प्रभात*
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
कोई नई ना बात है।
कोई नई ना बात है।
Dushyant Kumar
जीतकर ही मानेंगे
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
How long or is this
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
डर
डर
Sushil chauhan
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
सम्मान
सम्मान
Saraswati Bajpai
✍️वक़्त आने पर ✍️
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...