Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

“समझदार”

“समझदार”
समझदार वही जो जीवन रूपी अग्नि में चन्दन या कपूर डाले, जिससे कि वह औरों को भी सुगन्ध और प्रकाश दे सके।

6 Likes · 4 Comments · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोई उम्मीद
कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
2656.*पूर्णिका*
2656.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
नव वर्ष
नव वर्ष
Satish Srijan
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"बेज़ारी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उस पार की आबोहवां में जरासी मोहब्बत भर दे
उस पार की आबोहवां में जरासी मोहब्बत भर दे
'अशांत' शेखर
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कानाफूसी है पैसों की,
कानाफूसी है पैसों की,
Ravi Prakash
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
अज्ञात
अज्ञात
Shyam Sundar Subramanian
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
दुष्यन्त 'बाबा'
किसको-किसको क़ैद करोगे?
किसको-किसको क़ैद करोगे?
Shekhar Chandra Mitra
💐Prodigy Love-21💐
💐Prodigy Love-21💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...