Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

सब सूना सा हो जाता है

जब दूर कहीं चले जाते हो,
सब सूना सा हो जाता है।
आंखे मलूल हो जाती हैं,
दिल चैन कहीं न पाता है।

सब सूना सा हो जाता है।
दिल चैन कहीं न पाता है।

इस घर के कोने कोने में,
जगने में या फिर सोने में,
सब कुछ वैसे अनुबंध वहीं,
पर गुम दिखती वो सुगंध कहीं।

नीरवता से भर जाता है,
सब सूना सा हो जाता है।

टीवी सोफा घर बार में है
म्यूजिक व ए सी कार में है
खाने पीने की नहीं कमी,
घेरे रहती अनजान गमी।

फिर क्यों सुकून नहीं आता है,
सब सूना सा हो जाता है।

जीवन के हैं दिन चार प्रिय,
तुम संग तब सब साकार प्रिय,
मन हो जाता लाचार प्रिय,
तुझ से है इतना प्यार प्रिय।

तेरे बिन कुछ न भाता है,
सब सूना सा हो जाता है।

Language: Hindi
31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ Rãthí
जो गुज़र गया
जो गुज़र गया
Dr fauzia Naseem shad
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
"शब्द बोलते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
Anil "Aadarsh"
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
आर.एस. 'प्रीतम'
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
" बिछड़े हुए प्यार की कहानी"
Pushpraj Anant
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*Author प्रणय प्रभात*
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-483💐
💐प्रेम कौतुक-483💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
"शायद."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...