Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2023 · 3 min read

सब वर्ताव पर निर्भर है

जाते हो कहाँ, अभी जरा ठहरो.
कल तक रोब दिखाते थे,
यहाँ नहीं, वहां नहीं.
.
दुख भोगना है तो :-
प्रतिक्रिया करें,
गाली आवत एक है, पलटत एक अनेक.
सहज रहना, आदत बनानी होगी,
शांत स्वभाव का स्वरूप होता है,
.
चीढ़ जाना,
फिर काम करना,
अहित को गले लगा लेने जैसा है,
आपके पास अपना क्या है ?
जवाब आयेगा ज्ञान.
वह भी उधारी है,
जिसे तुम जानते हो,
अनुभव के बिना,
बिन प्रायोगिक,
वह आपका नहीं है ।
.
मैं कोई “आत्म-चिंतक” तो हूँ नहीं,
“निंदक नियरे राखिये, आंगन कुटि छवाय”
एक आलोचक जिसनें,
जिसे आलोचना करने का इसलिये,, आधार नहीं है । क्योंकि उससे अच्छा,, अपना श्रेष्ठ तो किया नहीं,,
एक राजनेता अपने विध्वंस नीतियों और पार्टी की विचारधारा की वजह से,
निथरे पानी को हिला हिलाकर,
फिर से गदला कर करके,
दिखाते आ रहा है,,
देखो भाईयों और बहनों,
पिछले सत्तर साल में,,
ये किया है,,
उन्होंने ने,,

खैर बातें
हवाई चप्पल से हवाई जहाज तक के सफर को,,
प्रति व्यक्ति आय को,
रोजगार बढ़ाने और नौकरियों को छीनने के सफर को,, कोई कुपढ़ ही सराहना कर सकता है,
आपको दिखाया क्या जा रहा है,
और हो क्या रहा है ।
इस पर अंध-आस्था /अंध-श्रद्धा /अंध-विश्वास को पालने से
शायद ही कोई सुधार हो ।
.
रोजमर्रा का जीवन
आपको बहुत सी जिम्मेदारियां देता है,
और आप जिम्मेदारी से भाग रहे हैं,
न कोई सीखने की इच्छा
न ही गलत को गलत कहने का साहस,
.
आप अपनी प्रकृति से वाकिफ नहीं हैं,
बाहर की प्रकृति में भेडचाल चलती है ।
एक नेता गालियां गिनवा कर,
वोट बटोर रहा है,
आपको होश ही नहीं ।
कोई नेता,
जिसको जनता ने प्रतिनिधि चुना है ।
वह प्रतिनिधि इतना बेबस वह,
अपनी शक्तियों के उचित प्रयोग तक नहीं जानता है,, और जनता उसे प्रोत्साहन देती रहे ।
.
भीड़ के पास अपना मस्तिष्क नहीं होता.
वह जब तक अनियंत्रित होकर काम करती रहेगी,
जब तक वह किसी निर्देशन तले काम न कर रही हो ।
.
लोग कहते हैं,
देश में नेतृत्व का अभाव है,
देश के सामने विकल्प ही क्या है ?
जब जिम्मेदारियां खुद पर पड़ती हैं,
और वह जिम्मेदार बनना चाहता है,
तो सफलता मिलेगी ही,
लेकिन जिम्मेदारियों से भागने वाला नेता,
खुद को विज्ञापन और खुद को परोसने में लगा रहे,, ये एक विकार है विकास कैसे !
.
अतीत से सीख कर,
अतीत के मद्देनजर रख कर ही आगे बढ़े जा सकता है, अतीत को ढाल बनाकर,
आप अपना बचाव अवश्य कर सकते है,
उसको पायदान बनाकर बाधा को पार कर सकते हो,, वो तुम्हें भाता नहीं है,,
.
“आप कर्म करो, और फल की इच्छा मत करो”
पढ़ कर बड़े हुए हो.
तो सहज भाव से आप कुंठित ही रहेंगे,
आप पीठ पीछे बुराई, करने के स्वभाव वाले बनेंगे,,
आप कर्म भी करो,, फल भी नकद करो.
उधारी किसलिये और क्यों
बिन योजना और कार्य करे बिन,
आप उद्देश्य से भटकते रह जायेंगे,
ईश्वर सिर्फ़ दोष देने के लिए है,
कचरा फेंकने के लिए कूडेदान.
जब आपको हर किये का फल मिलता है,
तो प्राप्त करने और देने वाले आप ही हैं ।
.
बस आपको जिम्मेदार बनना है,
हां !
मैंने किया !
अपनी दृष्टि दृष्टिकोण से अच्छा ही किया था,
आपको पसंद नहीं आया,
थोड़ा धैर्य रखें,
परिणाम आने शेष हैं,

Language: Hindi
2 Likes · 484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
पूर्वार्थ
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
*जाती सर्दी का करो, हर्गिज मत उपहास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"सियासत"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#आज_का_नारा
#आज_का_नारा
*Author प्रणय प्रभात*
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
Loading...