Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

” सब भाषा को प्यार करो “

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
=================
अपनी भाषा को
तो पढ़ते नहीं ,
दूसरी भाषा
को कौन पढ़ेगा ?
इतने व्यस्त
हो गए आजकल ,
औरों की बातों को
कौन सुनेगा ?
भाषा- बोली सबकी
अच्छी होती है ,
जब तक हम
उसे समझते हैं !
समझें नहीं जब
उनकी बोली ,
उसे काला अक्षर
ही हम कहते हैं !!
पर आसान
हो गया अब तो ,
सब हम यहाँ
पढ़ सकते हैं !
पढ़ने की जिज्ञासा
रहने से ,
गूगल गाइड
बन जाते हैं !!
ध्यान सदा ही
रखना होगा ,
संक्षिप्तता में
ही रहना होगा !
लम्बी लेख को
कम पढ़ते हैं ,
छोटे लेखों को
लिखना होगा !!
सब भाषा हैं
मधुर अपनों में ,
सबको सीखने
का यत्न करें !
जहाँ कहीं भी
जरूरत होगी ,
उसे लिखने का
प्रयत्न करें !!
=======================
डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
13.08.2023

Language: Hindi
437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
जल
जल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ सब व्हाट्सअप यूँनीवर्सिटी और इंस्टाग्राम विश्वविद्यालय से
■ सब व्हाट्सअप यूँनीवर्सिटी और इंस्टाग्राम विश्वविद्यालय से
*Author प्रणय प्रभात*
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
*मुहर लगी है आज देश पर, श्री राम के नाम की (गीत)*
*मुहर लगी है आज देश पर, श्री राम के नाम की (गीत)*
Ravi Prakash
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मन होता है मेरा,
मन होता है मेरा,
Dr Tabassum Jahan
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
Subhash Singhai
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
Loading...