Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

सब कुछ हमारा हमी को पता है

सब कुछ हमारा हमीं को पता है
जैसे सूरज की गर्मी जमीं को पता है
लाखों कमियां गिनाया है ज़माने ने अबतक,
मुझमें कितनी कमीं है, कमीं को पता है
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

2 Likes · 381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
एक आश विश्वास
एक आश विश्वास
Satish Srijan
*हमारे घर आईं देवी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*हमारे घर आईं देवी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
1...
1...
Kumud Srivastava
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
यह ज़मीं है सबका बसेरा
यह ज़मीं है सबका बसेरा
gurudeenverma198
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
Loading...