Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2021 · 2 min read

“सब कुछ रेडिमेड है”

सब कुछ रेडिमेड है
******************

जहां सूट, पैंट व बनता था कुर्ता,
उस टेलर में ही लगा अब शेड है;
दर्जी को, अब सीने से परहेज है;
सब पहनता सब कुछ रेडिमेड है।

जिन बच्चों का हक था,प्यार का;
माता-पिता के हर-पल दुलार का,
अब तो काम पर, मम्मी व डैड हैं;
उसे,प्यार मिलता अब रेडिमेड है।

बच्चे जब भी , अपने स्कूल जाए;
मां के हाथ बना,ना कुछ खा पाए;
घर में , हर काम हेतु रहती मेड है;
टिफिन, नाश्ता भी तो, रेडिमेड है।

ना अब कोई कहीं भी गुरुकुल है;
बस दिखता,नाम का ही स्कूल है;
पढ़ाई भी तो, अब सदा प्रीपेड है;
परीक्षा-परिणाम , अब रेडिमेड है।

जो ट्रेनें होती थी,अब बुलेट ट्रेन है;
आसमान में है अब,पटरी बिछती;
अब नहीं दिखता,वो मीटर गेज है;
अब तो, हवा में ही सब रेडिमेड है।

जिजीविषा हेतु, कुछ नही मेहनत;
पेड़ पौधे की भी , नहीं है जरूरत;
शुद्ध प्राण-वायु लेने में भी, खेद है;
ऑक्सीजन भी,बिकता रेडिमेड है।

विवाह की,किसी घर रौनक कहां;
ना ही, गांव या जगह का ठिकाना;
ना ही मंडप, शामियाना व सेज है;
सब कुछ एक ही जगह रेडिमेड है।

अब बच्चे भी मिलते,अनाथालय में;
माता- पिता , नहीं हरेक आलय में;
फिर गोद लेने आते,मम्मी व डैड है;
अब बच्चा व माता-पिता रेडिमेड है।

एक घर होता था , सबका अपना;
अपनी जमीं पे, सजता था सपना;
अब तो , ऊंची बिल्डिंग गिफ्टेड है;
शहर का , घर भी अब रेडिमेड है।

रिश्ता नाता कहां किसी को भाता,
अपने पराये , पराया अपना होता;
अब रिश्ता में , नहीं कोई क्रेज है;
अब रिश्ता भी मिलता, रेडिमेड है।

अब कहां है, कवि की ही कल्पना;
गौण हो गई, लेखक की वो रचना;
दिखाता सब,बस अपनी ही ग्रेड है;
अब रचना या लेखन भी रेडिमेड है।

**************************

……..✍️पंकज कर्ण
………….कटिहार।।

Language: Hindi
6 Likes · 6 Comments · 840 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
मैं हूं कार
मैं हूं कार
Santosh kumar Miri
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मतवाला मन
मतवाला मन
Dr. Rajeev Jain
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
ये जिन्दगी तुम्हारी
ये जिन्दगी तुम्हारी
VINOD CHAUHAN
@@ पंजाब मेरा @@
@@ पंजाब मेरा @@
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
होता नहीं कम काम
होता नहीं कम काम
जगदीश लववंशी
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/16.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी
बेटी
Akash Yadav
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
■ आज की बात...!
■ आज की बात...!
*प्रणय प्रभात*
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...