Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में

सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
वह खिलौना शामिल नहीं था मेले मे..,

एक दिन वह लौटकर आएगा घर मेरे….
जिंदगी लुटा दी हमने इसी झमेले में…!!

✍️kavi Deepak saral

1 Like · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Dr. Man Mohan Krishna
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
बुंदेली दोहा-नदारौ
बुंदेली दोहा-नदारौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
दर्द की मानसिकता
दर्द की मानसिकता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शेर
शेर
Monika Verma
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
छोटे छोटे सपने
छोटे छोटे सपने
Satish Srijan
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
Loading...