Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे

सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
मैं जो कहता हूॅ॑ खुदा कसम मान जाओगे
ये जिंदगी है तुम्हारी सुनो एक अबुझ पहेली
आसान दिखती है मगर नहीं आसान पाओगे—सब्र.
न तेरा दिल होगा न जिस्म सब ये राख होगी
तूॅ॑ जिस सूरत पे इतराता है वो भी खाक होगी
वक्त गुजरने दो ना खुद को हीं पहचान पाओगे—सब्र
ये जागीर ये दौलत कौन कहाॅ॑ पर ले जाएगा
तूॅ॑ खाली हाथ आया यूॅ॑ ही खाली हाथ जाएगा
जिस दिन जाओगे श्मशान खुद ही मान जाओगे–सब्र
ये रिश्तों की डोर है जो बहुत भरमाएगी
तूॅ॑ जिसे मोहब्बत समझता ना साथ जाएगी
बेनाम आए थे जमाने में और गुमनाम जाओगे—सब्र
‘V9द’ बातें जमाने की तुमको रूलाएंगी
कुछ तो मिठी यादें रख जो जख्म सहलाएंगी
खुद में जीना सीख लोगे तो ही खुदा को पाओगे–सब्र

2 Likes · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
पूर्वार्थ
वो हमें भी तो
वो हमें भी तो
Dr fauzia Naseem shad
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"आज और अब"
Dr. Kishan tandon kranti
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Harish Chandra Pande
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अर्पण है...
अर्पण है...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
🌹खूबसूरती महज....
🌹खूबसूरती महज....
Dr Shweta sood
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
प्रेम
प्रेम
Neeraj Agarwal
Loading...