Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

सब्जियां सर्दियों में

✍️
🍒🍓 सब्जियां सर्दियों में🍒🍓
खूब खाइए सब्जियां,
स्वस्थ रहे शरीर, रोग ना व्यापै,
देख सब्जियों की शक्ति को,
सर्दी भी थर थर कांपै।
🍆🥕🌶️ 🍆🥕🌶️ 🍆🥕
खूब बनाएं सूप, पिएं कभी भी,
चायकॉफी पर भारी,
इसकी महिमा, कही ना जाए,
है बहुत हितकारी।
🍅🥕🍅🥕🍅🥕🍅🥕
अदरक,लहसुन,प्याज,धनिया,
हरीमिर्च अलबेली,
सरसों,चना, मैथी, बथुआ,
पालक संग भाती है मूली।
🥕🌶️ 🥕🌶️ 🥕🌶️🥕
शकरकंद,अमरुद,बेर,संतरा से
मन नहीं भर पाता,
कब्ज़ करें दूर, लेकिन
सर्दीखांसी से भी इनका नाता।
🍊🥔🍒🍑🍐🍏🍌🍊
चुकंदर,गाजर,आंवला का जूस
है विटामिन से भरपूर,
मिले शक्ति, आंखों की ज्योति,
होजाए कमजोरी दूर।
🍏🍅🥕🍎🍏🍅🥕🍏
खेतों में है खड़ा गन्ना,
चना चौधरी, मटर गुलाम,
इन्हीं अदाओं पर मर रही,
ठाड़ी सरसों करे सलाम।
🌾🌱🌿🍀🌾🌱🌿🍀
___ मनु वाशिष्ठ

3 Likes · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
बची रहे संवेदना...
बची रहे संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करवाचौथ (कुंडलिया)
करवाचौथ (कुंडलिया)
गुमनाम 'बाबा'
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
Winner
Winner
Paras Nath Jha
"शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"शिक्षक तो बोलेगा”
पंकज कुमार कर्ण
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
😊नया नारा😊
😊नया नारा😊
*प्रणय प्रभात*
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
gurudeenverma198
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
हालात भी बदलेंगे
हालात भी बदलेंगे
Dr fauzia Naseem shad
चलना है मगर, संभलकर...!
चलना है मगर, संभलकर...!
VEDANTA PATEL
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं नहीं कहती
मैं नहीं कहती
Dr.Pratibha Prakash
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
कल मेरा दोस्त
कल मेरा दोस्त
SHAMA PARVEEN
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
"अपेक्षाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
Loading...