Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।

सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
केवट की नाव चढ़े रघुनंदन भव सागर से पार किया।।
कोल किरात भील बनवासी सबको प्रभु ने अपनाया।
दिन दुखी को गले लगाकर सबका बेड़ा पार किया।।
गिद्ध अजामिल गणिका पर प्रभु ने दिखलाई करुणाई।।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
2990.*पूर्णिका*
2990.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्रेम सपन सलोना सा"
Dr. Kishan tandon kranti
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
#मसखरी...
#मसखरी...
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-422💐
💐प्रेम कौतुक-422💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
जीवनामृत
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
Loading...