Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

सबक

सबक है जिंदगी,
जो समझ जाएंगे!
वो संवर जाएंगे।
जो नहीं समझेंगे,
वो भंवर हो जाएंगे।

Language: Hindi
1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
2653.पूर्णिका
2653.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
भूल जा इस ज़माने को
भूल जा इस ज़माने को
Surinder blackpen
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सौदा"
Dr. Kishan tandon kranti
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अवसर
अवसर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...