Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

” सबको गीत सुनाना है “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल “
==============
मन करता है
लिखता जाऊँ,
लोगों को
कोई गीत सुनाऊँ,
मधुर रागनी
के कंठों से ,
सुर सरगम का
हार बनाऊँ !!
कभी प्रणय का
गीत लिखूँ ,
रूप का मैं
गुणगान करूँ ,
नख –शिख
वर्णन करके ,
प्रेमों का
इजहार करूँ !!
कभी प्रकृति के
वर्णन को ,
गीतों में
उसको ढालूँ ,
उसके सौन्दर्य
बिरासत को ,
अपने हृदय में
उसे बसा लूँ !!
वीरों के बलिदानों
को हम ,
कैसे उन्हें
भुला सकते हैं ,
उनकी गाथा
सबको सुनाकर ,
जीवित उनको
कर सकते हैं !!
सब रस है
जीवन में सुंदर ,
हास्य -व्यंग
भी लिखते हैं ,
पर व्यंगों की
बातों में हम ,
नायक खुद को
चुनते हैं !!
मैं लिखता हूँ
सब दिन यूंही,
मेरा रोग
पुराना है ,
मैं गाता हूँ
अपनी धुन पर ,
सबको गीत
सुनाना है !!
=================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका

Language: Hindi
Tag: गीत
132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता
कविता
Rambali Mishra
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
शायरी
शायरी
goutam shaw
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
बदनसीब का नसीब
बदनसीब का नसीब
Dr. Kishan tandon kranti
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
पूर्वार्थ
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
मेरे जीने की एक वजह
मेरे जीने की एक वजह
Dr fauzia Naseem shad
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...