Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2022 · 1 min read

सबके अपने अपने मोहन

भारत में हर घर वृंदावन
सबके अपने-अपने मोहन

कोई कहे वो कृष्ण कन्हैया
कोई कहे वो रास रचैया
कोई माखन चोर बतावे
कोई कहे हलधर का भैया
सबके अपने नामकरण हैं
सबके अपने हैं संबोधन
सबके अपने अपने मोहन
भारत में हर घर वृंदावन
सबके अपने-अपने मोहन

कोई कहे वो नंद का लाला
कोई कहे लड्डू गोपाला
कोई कहे वो राधावल्लभ
कोई कहे वो जग भूपाला
सबका अपना प्रेमभाव है
सबका अपना रूप निरूपण
सबके अपने अपने मोहन
भारत में हर घर वृंदावन
सबके अपने-अपने मोहन

कोई कहे वो योगेश्वर है
कोई कहे वो है ज्ञानेश्वर
कोई बतावे प्रेम पुजारी
कोई कहे उसको सर्वेश्वर
सबके अपने दृष्टि भेद हैं
सबका अपना चिंतन मंथन
सबके अपने अपने मोहन
भारत में हर घर वृंदावन
सबके अपने अपने मोहन

कोई कहे मुरलीधर उसको
कोई चक्र सुदर्शन धारी
कोई बतावे छलिया उसको
कोई कहे वो है संसारी
सबका अपना भाव बोध है
सबका अपना तत्व विवेचन
सबके अपने अपने मोहन
भारत में हर घर वृंदावन
सबके अपने-अपने मोहन

-शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
Tag: गीत
4 Likes · 1 Comment · 1112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
*फल- राजा कहलाता आम (बाल कविता/हिंदी गजल)*
*फल- राजा कहलाता आम (बाल कविता/हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai  zindagi  kam hi  sahi.
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai zindagi kam hi sahi.
Rekha Rajput
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
Nanki Patre
Loading...