Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

सबकी जात कुजात

पानी भोजन कपड़े जूते मका सबकी जात

घड़े बनाये मैंने तुमने घड़े पानी की जात,
जूते बनाये मैंने तुमने अपमान की बात,,

मैले कपड़े धोकर मैंने किया मैला साफ,
दूर किया समाज से ये भला क्या बात,,

सब्जी उगाई अनाज उगाया फल और फूल,
तुमने मेरी मेहनत को बनाया सदा मजाक,,

घर पर बर्तन मांजे चौका सम्भाल बच्चे पाले,
तुमने आंख दिखा के इज्जत पर डाला हाथ,,

सदा करा शोषण कभी न दिया हक आवाज,
कभी तो करो समता ममता मनु वाली बात,,

आपका🙏
मानक लाल मनु विनीता मनु Manu Std

Language: Hindi
2 Likes · 481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
Paras Nath Jha
"दान"
Dr. Kishan tandon kranti
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
पागल
पागल
Sushil chauhan
कौन यहाँ पर पीर है,
कौन यहाँ पर पीर है,
sushil sarna
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
वो एक एहसास
वो एक एहसास
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...