Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2022 · 1 min read

सफ़रनामा

सफ़रनामा

यह वहम सदा रहा कि हम तो अपने घर में हैं
है मगर सच्चाई की युगों से सफर में हैं

पांव का चलना ही तो
केवल है सफर नहीं
नाव का हिलना ही तो
केवल है सफर नहीं

सोच में हो रास्ता
वह भी तो सफर तो है
नाव की तैयारियां भी
तो इक सफर तो है

उम्र करती है सफर
हमारी जिस्म जान से
देख तो हम बेखबर
हमारी जिस्म जान से

इक गली से है जुड़ी
कितनी और भी गली
चौखटों के पार तो
राहें और भी मिलीं

यह तख्तो ताज शोहरतें
और सभी दौलतें
वक्त के समुंदरों से
मिलीं यह इनायतें

जिस तरह आई है पास
पानियों में बहके ये
उस तरह हीं जाएंगी
पानियों में बहके ये

है हजार हजार मोड़
इक इक पड़ाव पर
हमने क्या लगाया दांव
हम ही रहे दांव पर

होंगे कहीं और कल आज हम तेरे शहर में हैं
यह वहम सदा रहा कि हम तो अपने घर में हैं

गौतम कुमार सागर

Language: Hindi
2 Likes · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सजाता कौन
सजाता कौन
surenderpal vaidya
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संयुक्त राष्ट्र संघ
संयुक्त राष्ट्र संघ
Shekhar Chandra Mitra
दिल साफ होना चाहिए,
दिल साफ होना चाहिए,
Jay Dewangan
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
*आओ ढूॅंढें अपने नायक, अपने अमर शहीदों को (हिंदी गजल)*
*आओ ढूॅंढें अपने नायक, अपने अमर शहीदों को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
गाय
गाय
Vedha Singh
विश्वास मिला जब जीवन से
विश्वास मिला जब जीवन से
TARAN VERMA
अपराध बालिग़
अपराध बालिग़
*Author प्रणय प्रभात*
देश और देशभक्ति
देश और देशभक्ति
विजय कुमार अग्रवाल
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
"अपने हक के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
Dr MusafiR BaithA
कुछ तो रिश्ता है
कुछ तो रिश्ता है
Saraswati Bajpai
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
कर्तव्यपथ
कर्तव्यपथ
जगदीश शर्मा सहज
Loading...