Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 15, 2019 · 2 min read

सफलता का राज

विजय होस्टल में रहता था उसकी 12 वीं की परीक्षा जैसे जैसे पास आती जा रहीं थी उसकी घबराहट और परेशानी बढ़ती जा रही थी ।
वह मेहनत तो खूब करता लेकिन सफलता कौसो दूर रहती ।
उसकी कक्षा के बाकी लडके उसका मजाक भी उड़ाते और कहते ” सौ दिन चले अढ़ाई कोस ”
विजय का एक ही सच्चा दोस्त दिनेश था जो विजय को हिम्मत देता था । दिनेश ने तय किया :
” विजय इस बार अच्छे नम्बरों से पास होगा ।”
वह विजय के घर पढने जाने लगा और बातों से उसमें आत्मविश्वास का मंत्र फूंकने लगा । दिनेश कहता :
“विजय तुम पढ़ाई में बहुत होशियार हो , तुम्हारी स्मरणशक्ति बहुत अच्छी है वह तुम्हे जरूरत है तो अपने आप को मज़बूत बनाने की मन में विश्वास जगाने की ।”
इसके बाद दोनों पढाई करते और एक दूसरे की समस्याओ को हल करते ।”
दिनेश का मंत्र काम आया और विजय ने पूरे आत्मविश्वास के साथ परीक्षा दी । दिनश और वह प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुऐ ।
विजय ने दिनेश को गले लगा लिया और बोला :
” अच्छे और सच्चे दोस्त बहुत कम होते है तुम्हारा मंत्र में जिन्दगी के हर कदम में याद रखूगा, आज मेरे माता पिता बहुत खुश होगे दोस्त मैं आज ही उन्हें बताऊंगा मेरी सफलता का राज मेरा दोस्त दिनेश है , जिसने सफल होने का मूल मंत्र मुझे दिया है । ”
दिनेश ने सहज हक कहा :
” नहीं विजय यह तुम्हारी मेहनत , लगन और आत्मविश्वास का परिणाम है मैने तो सिर्फ तुम्हें सफलता कैसे पाए इसका मंत्र दिया है ।”
दोनों खुशी खुशी भगवान का आशीर्वाद लेने मंदिर चल दिए।

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

259 Views
You may also like:
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
'अशांत' शेखर
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
बे अदब कहोगे।
Taj Mohammad
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रेम
Kanchan Khanna
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
मुहब्बत कभी तमाम ना होती है।
Taj Mohammad
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
'अशांत' शेखर
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
'अशांत' शेखर
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुरू
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क की तिशनगी है।
Taj Mohammad
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
ऋतुराज का हुआ शुभारंभ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*त्यौहारों का देश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर लम्हा।
Taj Mohammad
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पत्थर✍️
'अशांत' शेखर
मैं रात-दिन
Dr fauzia Naseem shad
नीली साइकिल वाली लड़की
rkchaudhary2012
Loading...