Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2019 · 2 min read

सफलता का राज

विजय होस्टल में रहता था उसकी 12 वीं की परीक्षा जैसे जैसे पास आती जा रहीं थी उसकी घबराहट और परेशानी बढ़ती जा रही थी ।
वह मेहनत तो खूब करता लेकिन सफलता कौसो दूर रहती ।
उसकी कक्षा के बाकी लडके उसका मजाक भी उड़ाते और कहते ” सौ दिन चले अढ़ाई कोस ”
विजय का एक ही सच्चा दोस्त दिनेश था जो विजय को हिम्मत देता था । दिनेश ने तय किया :
” विजय इस बार अच्छे नम्बरों से पास होगा ।”
वह विजय के घर पढने जाने लगा और बातों से उसमें आत्मविश्वास का मंत्र फूंकने लगा । दिनेश कहता :
“विजय तुम पढ़ाई में बहुत होशियार हो , तुम्हारी स्मरणशक्ति बहुत अच्छी है वह तुम्हे जरूरत है तो अपने आप को मज़बूत बनाने की मन में विश्वास जगाने की ।”
इसके बाद दोनों पढाई करते और एक दूसरे की समस्याओ को हल करते ।”
दिनेश का मंत्र काम आया और विजय ने पूरे आत्मविश्वास के साथ परीक्षा दी । दिनश और वह प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुऐ ।
विजय ने दिनेश को गले लगा लिया और बोला :
” अच्छे और सच्चे दोस्त बहुत कम होते है तुम्हारा मंत्र में जिन्दगी के हर कदम में याद रखूगा, आज मेरे माता पिता बहुत खुश होगे दोस्त मैं आज ही उन्हें बताऊंगा मेरी सफलता का राज मेरा दोस्त दिनेश है , जिसने सफल होने का मूल मंत्र मुझे दिया है । ”
दिनेश ने सहज हक कहा :
” नहीं विजय यह तुम्हारी मेहनत , लगन और आत्मविश्वास का परिणाम है मैने तो सिर्फ तुम्हें सफलता कैसे पाए इसका मंत्र दिया है ।”
दोनों खुशी खुशी भगवान का आशीर्वाद लेने मंदिर चल दिए।

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

Language: Hindi
583 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Lines of day
Lines of day
Sampada
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
Mohan Pandey
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"उतना ही दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
सत्य कुमार प्रेमी
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
नाम में सिंह लगाने से कोई आदमी सिंह नहीं बन सकता बल्कि उसका
Dr. Man Mohan Krishna
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
Ravi Prakash
जीवन का किसी रूप में
जीवन का किसी रूप में
Dr fauzia Naseem shad
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
#एक_ही_तमन्ना
#एक_ही_तमन्ना
*प्रणय प्रभात*
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...