Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

सफलता का मार्ग

सफलता का मार्ग

रख जुनून और जज़्बात कायम
बढ़ता जा तू अपने पथ पर
जी जान से कर प्रयास
कर मेहनत पूरी लगन से
मत डिगना और मत रुकना
अपने मन से

जब ठान लिया है कुछ करने का
तो डर किस बात का
गहराइयों में डूबकर भी
खुद को परखना पड़ेगा
हैं जीवन कितना मुश्किल पर
सच्ची राहों पर चलना सीखना पड़ेगा

मत भटकना अपने पथ से
तू चलते रहना सीधे रास्ते
जब तक न मिले सफलता
मत छोड़ना मैदान संघर्ष का
क्योंकि जब हार होती हैं तो
जीत आपका इंतजार करती है

ये जीत ही सफलता का रास्ता बतलायेगी
खुद से प्रेरित होकर आगे बढ़ते रहना
एक दिन वह मंजर भी आएगा
जब ऊंचाइयों को छूता हुआ
मंजिल का रास्ता मिलेगा

प्रवीण सैन नवापुरा ध्वेचा

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ऐसा करें कुछ"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
भारत को निपुण बनाओ
भारत को निपुण बनाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
*उसके यहाँ भी देर क्या, साहिब अंधेर है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल --
ग़ज़ल --
Seema Garg
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
नेता
नेता
Punam Pande
"" *हाय रे....* *गर्मी* ""
सुनीलानंद महंत
आवाज मन की
आवाज मन की
Pratibha Pandey
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
2392.पूर्णिका
2392.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सोशल मीडिया पर
सोशल मीडिया पर
*प्रणय प्रभात*
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
मान देने से मान मिले, अपमान से मिले अपमान।
पूर्वार्थ
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
Time
Time
Aisha Mohan
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Sukoon
Loading...