Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो

सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो
जिगर हो मगर संग जाने जिगर हो
मोहब्बत तो है नाम उस इंतिहा का
जमाने का डर न खुद की फ़िक्र हो

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
LEAVE
LEAVE
SURYA PRAKASH SHARMA
ईश्वर की आँखों में
ईश्वर की आँखों में
Dr. Kishan tandon kranti
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
बच्चा बूढ़ा हो गया , यौवन पीछे छोड़ (कुंडलिया )
बच्चा बूढ़ा हो गया , यौवन पीछे छोड़ (कुंडलिया )
Ravi Prakash
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
जय हो कल्याणी माँ 🙏
जय हो कल्याणी माँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जुआं में व्यक्ति कभी कभार जीत सकता है जबकि अपने बुद्धि और कौ
जुआं में व्यक्ति कभी कभार जीत सकता है जबकि अपने बुद्धि और कौ
Rj Anand Prajapati
3063.*पूर्णिका*
3063.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
Monika Arora
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
Dr fauzia Naseem shad
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
राम मंदिर
राम मंदिर
Sanjay ' शून्य'
ये दुनिया भी हमें क्या ख़ूब जानती है,
ये दुनिया भी हमें क्या ख़ूब जानती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...