Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)

सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)
…………………………………………..
सफर में चाहते खुशियॉं , तो ले सामान कम निकलो
अधूरी चाहतें हैं तो भी, घर पर छोड़ गम निकलो
यहॉं पर रोज ही मौसम, बदलते रंग रहते हैं
रहो भीतर से खुश हरदम, न लेकर ऑंख नम निकलो
____________________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615 451

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
gurudeenverma198
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
Phool gufran
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
"अगर आप किसी का
*Author प्रणय प्रभात*
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
Anil "Aadarsh"
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुहब्बत का घुट
मुहब्बत का घुट
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
तिरी खुबसुरती को करने बयां
तिरी खुबसुरती को करने बयां
Sonu sugandh
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
💐प्रेम कौतुक-539💐
💐प्रेम कौतुक-539💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नौका विहार
नौका विहार
Dr Parveen Thakur
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
सत्य
सत्य
Dr.Pratibha Prakash
Loading...