Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

मुसाफिर हो तुम भी

सफर पर हो तुम भी
सफर पर हैं हम भी।
किसी का नहीं है,
लफानी बसेरा ।
मुसाफिर हो तुम भी
मुसाफिर हैं हम भी।
मुकम्मल ठिकाना,
न तेरा न मेरा।

चलो गुफ्तगूं चार,
करते चले हम,
हैं रातें कठिन,
राह भी है नहीं कम।
मुसलसल रहे चलते
संग संग अगर यूं ,
मिले जल्दी मंजिल,
हो जल्दी सवेरा।

मुसाफिर हो तुम भी
मुसाफिर हैं हम भी।
मुकम्मल ठिकाना,
न तेरा न मेरा।

भले राहें इक सी
सुनो चलने वाले,
पर मंजिल अलग है
हमारी तुम्हारी।
किसी मोड़ पर
हो जुदा कारवां जब,
रह जाए अधूरी
कहानी हमारी।

तेरे साथ हैं हम,
एक दूजे से कह लें।
घड़ी दो घड़ी तो,
मुहब्बत से रह लें।
बदा होगा जो भी,
जो होना है होगा।
न भूलें कभी,
उस खुदा का निहोरा।

मुसाफिर हो तुम भी
मुसाफिर हैं हम भी।
मुकम्मल ठिकाना,
न तेरा न मेरा।

सतीश सृजन, लखनऊ,

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
हर किसी का एक मुकाम होता है,
हर किसी का एक मुकाम होता है,
Buddha Prakash
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
महाकाल का आंगन
महाकाल का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
तो अब यह सोचा है मैंने
तो अब यह सोचा है मैंने
gurudeenverma198
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
2672.*पूर्णिका*
2672.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
Loading...