Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

सफर की यादें

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:- सफर की यादें

आह! बड़े दिनों बाद उसका फोन आया,
बहुत वक्त बाद, तेरे चाहत का पैगाम आया !
भावविह्वल हो, मैं तुम्हें सुन रही थी ,
पुराने सपने, नये तरीके से बुन रही थी !
मैं होकर भी नही थी फोन पर ,
मंत्रमुग्ध थी उसके टोन पर !
सदियों पीछे, अपने को ढूंढ रही थी ,
‘प्रतिभा’ नजर आ रही थी,,
पर ,, अपरिचित सी मुझे देख रही थी !
कसकर जकड़ रखा हैं उसने बाहों में ,
फूल ही फूल बिछे हैं राहों में !
ख्वाइशे पूरी करने की गुहार ,
बार-बार , प्यार का इजहार !
मना ना करना प्रिये, मेरी मनुहार !
हर राहों को आसान बनाएँगे प्रिये,
किये थे जो वादा निभाएगे प्रिये !
मेरी मीठी शाम लौटाओ ,
फिर से मेरी जिंदगी बन जाओ…….!

पीछे से माँ , माँ , की आवाज से ध्यान टूटा ,
ध्यान के साथ अरमान टूटा …!
कहाँ गुमनाम थे अब तक ,
तीर सवाल था मेरा ,
तुमने जवाब दिया, आत्मग्लानि से भरकर ,,,
जब तक पास था, तेरा एहसास नहीं कर पाया,
बाहों में भरकर भी, तुम्हें अपना नहीं पाया 😔
दूर होकर जाना, तुम मेरी बंदगी हो ,
तुम्हीं मेरी सुकून-ए-जिन्दगी हो …!

आवाज रुआंसी थी मेरी, पर बुलंद बोली,,,

समय ने, समय को, समय पर, समय ना दिया ,
फिर समय ने, समय को, रुखसत कर दिया !!

आह! आज भी वक्त, बे- वक्त बहुत पीछे मुझे ले जाती है,
यादें, सफर की यादें खींच कर रुऑंसी कर जाती है |

(स्वरचित, मौलिक रचना)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
3 Likes · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तुम मेरे साथ
तुम मेरे साथ
Dr fauzia Naseem shad
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
जीवन में ऐश्वर्य के,
जीवन में ऐश्वर्य के,
sushil sarna
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
वापस
वापस
Harish Srivastava
Loading...